Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
हाज़िर जवाब पर आपका स्वागत है!
0 जैसा 0 नापसंद
45 बार देखा गया
(5.1k अंक) द्वारा में धर्म और संप्रदाय पूछा गया

आपका उत्तर

अपना नाम प्रदर्शित करने के लिए (विकल्प):
गोपनीयता: आपका ईमेल पता सूचनाएं थीसिस भेजने के लिए ही इस्तेमाल किया जाएगा.
स्पैम विरोधी सत्यापन:
भविष्य में इस सत्यापन बचने के लिए, कृपया लॉग इन या रजिस्टर करें.

1 उत्तर

0 जैसा 0 नापसंद
(25.3k अंक) द्वारा उत्तर
सनातन धर्म में हर दिवस का संबंध किसी न किसी देवता से है। रविवार को भगवान
भास्कर की उपासना की जाती है। मंगलवार को भगवान् मारूतिनन्दन का दिन माना जाता है। कहीं कहीं इसे मंगलमूर्ति गणपति का भी दिवस मानते हैं। बुधवार को बुध की पूजा का विधान है क्योंकि यह शांति का दिवस है। बृहस्पतिवार को कदली वृक्ष में गुरु की पूजा की जाती है। शुक्रवार भगवती संतोषी का दिवस प्रसिद्ध है तो शनिवार को महाकाल रूप भैरव एवं महाकाली की सपर्या संपन्न की जाती है।

ठीक ऐसे ही भगवान् शंकर सोमवार को सबसे ज्यादा पूजे जाते हैं। हर सनातनधर्मी का आग्रह होता है कि और किसी दिन शिव मंदिर जाएँ या न जाएँ लेकिन सोमवार को दर्शन अवश्य करेंगे। आखिर ऐसा क्यों? शिव के लिए सोमवार का आग्रह ही क्यों? आईए! इस पर कुछ विचार करें।

सबसे पहले दिनों की उत्पत्ति के सन्दर्भ में विचार करते हैं। वास्तव में ये सारे दिवस भगवान् शंकर से ही प्रकट माने जाते हैं।

शिव-महापुराण के अनुसार प्राणियों की आयु का निर्धारण करने के लिए भगवान् शंकर ने काल की कल्पना की। उसी से ही ब्रह्मा से लेकर अत्यन्त छोटे जीवों तक की आयुष्य का अनुमान लगाया जाता है। उस काल को ही व्यवस्थित करने के लिए महाकाल ने सप्तवारों की कल्पना की। सबसे पहले ज्योतिस्वरूप सूर्य के रूप में प्रकट होकर आरोग्य के लिए प्रथमवार की कल्पना की-

संसारवैद्यः सर्वज्ञः सर्वभेषजभेषजम्।
आय्वारोग्यदं वारं स्ववारं कृतवान्प्रभुः॥

अपनी सर्वसौभाग्यदात्री शक्ति के लिए द्वितीयवार की कल्पना की। उसके बाद अपने ज्येष्ठ पुत्र कुमार के लिए अत्यन्त सुन्दर तृतीयवार की कल्पना की।

तदनन्तर सर्वलोकों की रक्षा का भार वहन करने वाले परम मित्र मुरारी के लिए चतुर्थवार की कल्पना की। देवगुरु के नाम से पञ्चमवार की कल्पना कर उसका स्वामी यम को बना दिया।  असुरगुरु के नाम से छठे वार की कल्पना करके उसका स्वामी ब्रह्मा को बना दिया एवं सप्तमवार की कल्पना कर उसका स्वामी इंद्र को बना दिया।

नक्षत्र चक्र में सात मूल ग्रह ही दृष्टिगोचर होते हैं, इसलिए भगवान् ने सूर्य से लेकर शनि तक के लिए सातवारों की कल्पना की। राहु और केतु छाया ग्रह होने के कारण दृष्टिगत न होने से उनके वार की कल्पना नहीं की गई।

ऐसे तो भगवान् शंकर की उपासना हर वार को अलग फल प्रदान करती है। पुराणशिरोमणि शिवमहापुराण के अनुसार-

आरोग्यंसंपद चैव व्याधीनांशांतिरेव च।
पुष्टिरायुस्तथाभोगोमृतेर्हानिर्यथाक्रमम्॥

अर्थात स्वास्थ्य, संपत्ति, रोग-नाश, पुष्टि, आयु, भोग तथा मृत्यु की हानि के लिए रविवार से लेकर शनिवार तक भगवान् शङ्कर की आराधना करनी चाहिए। सभी वारों में जब शिव फलप्रद हैं तो फिर सोमवार का आग्रह क्यों? ऐसा लगता है की मनुष्य मात्र को सम्पत्ति से अत्यधिक प्रेम होता है, इसलिए उसने शिव के लिए सोमवार का चयन किया।

पुराणों के अनुसार सोम का अर्थ चंद्रमा होता है और चंद्रमा भगवान् शङ्कर के शीश पर मुकुटायमान होकर अत्यन्त सुशोभित होता है। लगता है कि भगवान् शङ्कर ने जैसे कुटिल, कलंकी, कामी, वक्री एवं क्षीण चंद्रमा को उसके अपराधी होते हुए भी क्षमा कर अपने शीश पर स्थान दिया वैसे ही भगवान् हमें भी सिर पर नहीं तो चरणों में जगह अवश्य देंगे। यह याद दिलाने के लिए सोमवार को ही लोगों ने शिव का वार बना दिया।

अथवा सोम का अर्थ सौम्य होता है। भगवान् शङ्कर अत्यन्त शांत समाधिस्थ देवता हैं। इस सौम्य भाव को देखकर ही भक्तों ने इन्हें सोमवार का देवता मान लिया।

सहजता और सरलता के कारण ही इन्हें भोलेनाथ कहा जाता है। अथवा सोम का अर्थ होता है उमा के सहित शिव। केवल कल्याणरी शिव की उपासना न करके साधक भगवती शक्ति की भी साथ में उपासना करना चाहता है क्योंकि बिना शक्ति के शिव के रहस्य को समझना अत्यन्त कठिन है। इसलिए भक्तों ने सोमवार को शिव का वार स्वीकृत किया।

अथवा सोम में ॐ समाया हुआ है। भगवान् शंकर ॐकार स्वरूप हैं। ॐकार की उपासना के द्वारा हीं साधक अद्वय स्थिति में पहुँच सकता है। इसलिए इस अर्थ के विचार के लिए भगवान् सदाशिव को सोमवार का देव कहा जाता है।

अथवा वेदों ने सोम का जहाँ अर्थ किया है वहाँ सोमवल्ली का ग्रहण किया जाता है।
जैसे सोमवल्ली में सोमरस आरोग्य और आयुष्यवर्धक है वैसे ही शिव हमारे लिए
कल्याणकारी हों, इसलिए सोमवार को महादेव की उपासना की जाती है।

संबंधित प्रश्न

1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 74 बार देखा गया
फ़रवरी 21, 2022 Himanshu Jangam (2.4k अंक) द्वारा में प्रश्नोत्तरी पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 54 बार देखा गया
मार्च 11, 2020 harish jangam (28.9k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 282 बार देखा गया
3 जैसा 0 नापसंद
7 उत्तर 8k बार देखा गया
दिसम्बर 7, 2017 Rituraj dixit द्वारा में समाजशास्त्र पूछा गया
0 जैसा 0 नापसंद
3 उत्तर 17.7k बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 68 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 714 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 79 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
2 उत्तर 114 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 1.6k बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 79 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 255 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
2 उत्तर 133 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 275 बार देखा गया
जून 21, 2019 Jitendra k Brajwasi (180 अंक) द्वारा में फुल फॉर्म पूछा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 274 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 52 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 94 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 62 बार देखा गया
अक्टूबर 20, 2021 harish jangam (28.9k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 76 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 284 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
2 उत्तर 3k बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 1.3k बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
4 उत्तर 4.1k बार देखा गया
3 जैसा 0 नापसंद
22 उत्तर 63.2k बार देखा गया
मई 6, 2016 lalit paharia (3.5k अंक) द्वारा में इंटरनेट पूछा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 74 बार देखा गया
अक्टूबर 18, 2021 shivam gupta (25.3k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 81 बार देखा गया
0 जैसा 1 नापसंद
1 उत्तर 138 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 73 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 84 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 155 बार देखा गया
फ़रवरी 4, 2019 bhavya (6.3k अंक) द्वारा में साहित्य और भाषा पूछा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 911 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 146 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 2k बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 66 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 127 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 175 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 156 बार देखा गया
अक्टूबर 25, 2019 harish jangam (28.9k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 361 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 77 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 61 बार देखा गया
मार्च 2, 2020 ashutosh sharma (7.6k अंक) द्वारा में त्यौहार पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 68 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 62 बार देखा गया

नये प्रश्न

चाय कैसे बनाये ?
0 मत | अनुत्तरित
Scientific Name of Computer?
0 मत | अनुत्तरित
Who is the father of Computer science?
0 मत | अनुत्तरित
LG किस देश की कंपनी है ?
0 मत | अनुत्तरित
सोमवार को ही शिव का दिन क्यों माना जाता है?
हाज़िर जवाब, विश्व की प्रथम हिन्दी प्रश्न उत्तर वेबसाइट पर आपका स्वागत है, जहां आप समुदाय के अन्य सदस्यों से हिंदी में प्रश्न पूछ सकते हैं और हिंदी में उत्तर प्राप्त कर सकते हैं |
प्रश्न पूछने या उत्तर देने के लिये आपको हिंदी मे टाइप करने की जरुरत नहीं हैं, आप हिंग्लिश (HINGLIS) मे भी टाइप कर सकते है!

डाउनलोड हाज़िर जवाब एंड्राइड ऍप

9.1k प्रश्न

12.5k उत्तर

3.4k उपयोगकर्ता



Website and app development

Website and app development


...