Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
हाज़िर जवाब पर आपका स्वागत है!
0 जैसा 0 नापसंद
115 बार देखा गया
(7.6k अंक) द्वारा में धर्म और अध्यात्म पूछा गया
What are the 16 steps of complete development described in Sanatan Dharma?

आपका उत्तर

अपना नाम प्रदर्शित करने के लिए (विकल्प):
गोपनीयता: आपका ईमेल पता सूचनाएं थीसिस भेजने के लिए ही इस्तेमाल किया जाएगा.
स्पैम विरोधी सत्यापन:
भविष्य में इस सत्यापन बचने के लिए, कृपया लॉग इन या रजिस्टर करें.

1 उत्तर

0 जैसा 0 नापसंद
(6.3k अंक) द्वारा उत्तर
 
सबसे अच्छा उत्तर
सनातन धर्म में पूर्ण विकास की १६ सीढ़ियाँ

ये १६ बातें समझ लें तो आपका पूर्ण विकास चुटकी में होगा

(१) आत्मबल : अपना आत्मबल विकसित करने के लिए ‘ॐ… ॐ…. ॐ… ॐ… ॐ…’ ऐसा जप करें ।

(२) दृढ़ संकल्प : कोई भी निर्णय लें तो पहले तीसरे नेत्र पर (भ्रूमध्य में आज्ञाचक्र पर) ध्यान करें फिर निर्णय लें और एक बार कोई भी छोटे-मोटे काम का संकल्प करें तो उसमें लगे रहें ।

(३) निर्भयता : भय आये तो उसके भी साक्षी बन जायें और उसे झाड़कर फेंक दें । यह सफलता की कुंजी है ।

(४) ज्ञान : आत्मा-परमात्मा और प्रकृति का ज्ञान पा लें । यह शरीर ‘क्षेत्र’ है और आत्मा ‘क्षेत्रज्ञ’ है । इस शरीररूपी खेत के द्वारा हम कर्म करते हैं अर्थात् बीज बोते हैं और फिर उसके फल मिलते हैं । तो हम क्षेत्रज्ञ हैं शरीर को और कर्मों को जाननेवाले हैं । प्रकृति परिवर्तित होनेवाली है और हम एकरस है। बचपन परिवर्तित हो गया, हम उसको जाननेवाले वही-के-वही हैं । गरीबी अमीरी चली गयी, सुख-दुःख चला गया लेकिन हम हैं अपने- आप, हर परिस्थिति के बाप। ऐसा दृढ़ विचार करने से, ज्ञान का आश्रय लेने से आप निर्भय और निःशंक होने लगेंगे ।

(५) नित्य योग : नित्य योग अर्थात् आप भगवान में थोड़ा शांत होइये और ‘भगवान नित्य हैं, आत्मा नित्य है और शरीर मरने के बाद भी मेरा आत्मा रहता है’ इस प्रकार नित्य योग की स्मृति करें ।

(६) ईश्वर-चिंतन : सत्यस्वरूप ईश्वर का चिंतन करें ।

(७) श्रद्धा : सत्शास्त्र, भगवान और गुरु में श्रद्धा यह आपके आत्मविकास का बहुमूल्य खजाना है ।

(८) ईश्वर विश्वास : ईश्वर में विश्वास रखें । जो हुआ, अच्छा हुआ, जो हो रहा है, अच्छा है और जो होगा वह भी अच्छा होगा, भले हमें अभी, इस समय बुरा लगता है । विघ्न-बाधा, मुसीबत और कठिनाइयों आती हैं तो विष की तरह लगती हैं लेकिन भीतर अमृत सैंजोये हुए होती हैं । इसलिए कोई भी परिस्थिति आ जाय तो समझ लेना, ‘यह हमारी भलाई के लिए आयी है ।’ आँधी-तूफान आया है तो फिर शुद्ध वातावरण भी आयेगा ।

(९) सदाचरण : वचन देकर मुकर जाना, झूठ-कपट, चुगली करना आदि दुराचरण से अपने को बचाना ।

१०) संयम : पति-पत्नी के व्यवहार में, खाने-पीने में संयम रखें । इससे मनोबल, बुद्धिबल, आत्मबल का विकास होगा ।

(११) अहिंसा : वाणी, मन, बुद्धि के द्वारा किसीको चोट न पहुंचायें । शरीर के द्वारा जीव- जंतुओं की हत्या, हिंसा न करें ।

(१२) उचित व्यवहार : अपने से श्रेष्ठ पुरुषों का आदर से संग करें । अपने से छोटों के प्रति उदारता, दया रखें । जो अच्छे कार्य में, दैवी कार्य में लगे हैं उनका अनुमोदन करें और जो निपट निराले हैं उनकी उपेक्षा करें । यह कार्यकुशलता में आपको आगे ले जायेगा ।

(१३) सेवा-परोपकार : आपके जीवन में परोपकार, सेवा का सद्‌गुण होना चाहिए । स्वार्थरहित भलाई के काम प्रयत्नपूर्वक करने चाहिए । इससे आपके आत्मसंतोष, आत्मबल का विकास होता है ।

(१४) तप : अपने जीवन में तपस्या लाइये। कठिनाई सहकर भी भजन, सेवा, धर्म-कर्म आदि में लगना चाहिए।

(१५) सत्य का पक्ष लेना : कहीं भी कोई बात हो तो आप हमेशा सत्य, न्याय का पक्ष लीजिये । अपनेवाले की तरफ ज्यादा झुकाव और परायेवाले के प्रति क्रूरता करके आप अपनी आत्मशक्ति का गला मत घोटिये । अपनेवाले के प्रति न्याय और दूसरे के प्रति उदारता रखें ।

(१६) प्रेम व मधुर स्वभाव : सबसे प्रेम व मधुर स्वभाव से पेश आइये ।

ये १६ बातें लौकिक उन्नति, आधिदैविक उन्नति और आध्यात्मिक अर्थात् आत्मिक उन्नति आदि सभी उन्नतियों की कुंजियाँ हैं।

संबंधित प्रश्न

0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 123 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 147 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 136 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 131 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 102 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 116 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 111 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 137 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 131 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 135 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 123 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 123 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 70 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
0 उत्तर 105 बार देखा गया
कृषि भूमि से संबंधित... मेरे पिताजी के नाम से एक कृषि भूमि है जीसे हमने 1978 में खरीदी थी और उसका दाखिल खारिज भी अपने नाम कर दिया था, अब उस जमीन पर एक ने कब्जा कर के सिविल वाद पेश किया है। सिविल वाद में इसने उक्त भूमि को 1958 में कृषि भूमि को उसके सबसे पहले मालिक से 75 रुपए में खरीदना बताया है और एक रुपए के स्टांप पर लिखित दस्तावेज पर खरीदना बताया है। और तब से उसका भूमि पर कब्जा बताया है।। जबकि हमारे पास रजिस्ट्री है और दाखिल खारिज भी हमारे नाम से है। कृषि भूमि के सबसे पहले मालिक की डेथ हो चुकी है। ऐसे में कोर्ट क्या फैसला लेगी जबकि उसने अभी कब्जा कर के रखा है। उसके खिलाफ धारा 447,379,427 में मुकदमा भी दर्ज हुआ है ।। कोर्ट में कैसे भी पहले उसने लगाया और एक तरफा स्टे लेके कब्जा कर दिया। हमे क्या करना चाहिए।
फ़रवरी 13, 2023 Arvind द्वारा में कानून और कानूनी मुद्दे पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 165 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 201 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 161 बार देखा गया
अगस्त 15, 2020 harish jangam (28.9k अंक) द्वारा में धर्म और अध्यात्म पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 78 बार देखा गया
मई 29, 2020 harish jangam (28.9k अंक) द्वारा में धर्म और अध्यात्म पूछा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 176 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
10 उत्तर 12.5k बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 415 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 88 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 117 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 82 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 85 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 114 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
2 उत्तर 1.2k बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
8 उत्तर 4.2k बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
2 उत्तर 1.1k बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 99 बार देखा गया
नवम्बर 4, 2019 Deepak bairwa (4.4k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
0 जैसा 0 नापसंद
2 उत्तर 103 बार देखा गया
1 पसंद 0 नापसंद
1 उत्तर 627 बार देखा गया
अक्टूबर 21, 2020 Akshay Saini (18.5k अंक) द्वारा में सामान्य ज्ञान पूछा गया
2 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 419 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 342 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
3 उत्तर 251 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 106 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 99 बार देखा गया
2 जैसा 0 नापसंद
2 उत्तर 105 बार देखा गया
0 जैसा 0 नापसंद
1 उत्तर 95 बार देखा गया

नये प्रश्न

सनातन धर्म में पूर्ण विकास की १६ सीढ़ियाँ किनको बताया गया है ?
हाज़िर जवाब, विश्व की प्रथम हिन्दी प्रश्न उत्तर वेबसाइट पर आपका स्वागत है, जहां आप समुदाय के अन्य सदस्यों से हिंदी में प्रश्न पूछ सकते हैं और हिंदी में उत्तर प्राप्त कर सकते हैं |
प्रश्न पूछने या उत्तर देने के लिये आपको हिंदी मे टाइप करने की जरुरत नहीं हैं, आप हिंग्लिश (HINGLIS) मे भी टाइप कर सकते है!

डाउनलोड हाज़िर जवाब एंड्राइड ऍप

9.1k प्रश्न

12.5k उत्तर

3.5k उपयोगकर्ता



Website and app development

Website and app development


...